Vindhya Bachao-Vindhyan Ecology and Natural History Foundation

vindhyabachao logo

News Board

IMAGE चुनार मिर्जापुर: लकड़ी बीनने गई महिला को जंगली जानवरों ने नोच खाया, हुई मौत- IBN 24x7
Tuesday, 16 October 2018
लकड़ी बीनने गई महिला को जंगली जानवरों ने नोच खाया, हुई मौत... Read More...
IMAGE मीरजापुर में तालाब के पास दिखाई दिया मगरमच्छ तो लोगों ने पीट-पीटकर ली जान- दैनिक जागरण
Tuesday, 09 October 2018
मीरजापुर (मड़िहान) । स्थानीय थाना क्षेत्र के रजौहां गांव के... Read More...
IMAGE भालू के बच्चे पकड़ने वाले पांच शिकारी धराये- दैनिक जागरण
Monday, 08 October 2018
ड्रमंडगंज वन रेंज के बंजारी कंपार्टमेंट नंबर पांच से रात्रि... Read More...
पटेहरा के थपनवा गांव में सांप की दहशत- दैनिक जागरण
Monday, 24 September 2018
पटेहरा पुलिस चौकीक्षेत्र के बभनी थपनवा गांव के लोग सर्प दंश से... Read More...
IMAGE यूपी में रोंगटे खड़े कर देने वाले अंदाज में पकड़ा गया मगरमच्छ, तस्वीरों में देखिए पूरी कहानी - वन इंडिया
Friday, 14 September 2018
मिर्जापुर जिले के पहाड़ी क्षेत्रो में जंगली जानवरों का खतरा... Read More...

Saving the Sloth Bears of Mirzapur


http://www.prabhatkhabar.com/news/garhwa/story/251609.html

Publish Date: Dec 30 2014 10:04AM

धुरकी(गढ़वा) : झारखंड के गढ़वा जिले की महात्वाकांक्षी कनहर जलाशय सिंचाई परियोजना साढ़े तीन दशक से विचाराधीन है. लेकिन उसी समय (वर्ष 1976-77) की उत्तरप्रदेश सरकार की कनहर सिंचाई परियोजना का क्रियान्वयन शुरू हो चुका है. 
 
यहां से महज कुछ किमी दूर उत्तरप्रदेश के सोनभद्र जिले के अमवार गांव के पास बन रही कनहर सिंचाई परियोजना से झारखंड प्रदेश को कोई लाभ तो नहीं मिलेगा, लेकिन नुकसान जरूर उठाना पड़ेगा. क्योंकि 2252.29 करोड़ की लागत की उक्त सिंचाई परियोजना का कमांड एरिया यूपी के सोनभद्र जिले की 35462 हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि है. जबकि इसके डूब क्षेत्र में झारखंड के फेफ्सा, भूमफोर, परासपानी समुलियास गांव आ रहे हैं. इसके कारण बांध बनते ही झारखंड के ये चारों गांव डूब जायेंगे. 5000 एकड़ भूमि प्रभावित होगी. गौरतलब है कि उक्त कनहर सिंचाई परियोजना से प्रभावित (डूब क्षेत्र में) यूपी के पड़नेवाले सभी 11 गांवों के प्रभावितों को मुआवजा दिया जा चुका है. 
 
लेकिन झारखंड के डूब क्षेत्र के ग्रामीणों के पुनर्वास हेतु कोई मुआवजा नहीं दिया गया है और  न ही इस परियोजना में झारखंड के प्रभावित होनेवाले ग्रामीणों के लिए कोई प्रावधान है. जबकि यूपी सरकार ने इस डूब क्षेत्र वाले गांवों में निशान बना कर इसे चिह्न्ति कर दिया है. इसके कारण इस क्षेत्र के ग्रामीणों में काफी आक्रोश है.

Visitor Count

Today528
Yesterday692
This week1220
This month16186

3
Online