Vindhyan Ecology and Natural History Foundation- Website header image

We are a voluntary organization working for the protection of critical ecosystems in Mirzapur region of Uttar Pradesh using scientific research, policy advocacy, and strategic litigation. To donate online click here


vindhyabachao logo

News Board

IMAGE बाण सागर नहर में घड़रोज की मौत- दैनिक जागरण
Thursday, 20 June 2019
हलिया वन्य सेंचुरी क्षेत्र में नदी नालों के सूखने के कारण आए... Read More...
IMAGE सड़क पर मिले मगरमच्छ को वन विभाग ने सुरक्षित अदवा नदी में छोडा-
Thursday, 20 June 2019
गर्मी बढ़ने के साथ ही सिमटते जलस्रोत की वजह से इंसान ही नहीं... Read More...
IMAGE विध्यक्षेत्र में बढ़ा काले हिरण की दुर्लभ प्रजाति का कुनबा- दैनिक जागरण
Wednesday, 29 May 2019
विध्यक्षेत्र के हलिया वनरेंज अभ्यारण्य में दुर्लभ प्रजाति के... Read More...
IMAGE मीरजापुर में शाम ढलते ही शुरु होती है एक उल्लू की दहशत, आधा दर्जन हो चुके हैं घायल- दैनिक जागरण
Saturday, 04 May 2019
यह अनोखी खबर है मगर है बिलकुल सच। जी हां! एक उल्‍लू इन दिनों... Read More...
IMAGE गांव में घुसा तेंदुआ, बनाया भेड़ को शिकार, घर से बाहर निकलने में लोग बरत रहे सजगता- दैनिक जागरण
Wednesday, 01 May 2019
हलिया थाना क्षेत्र के पवांरी खुर्द गांव निवासी पप्पू अली के घर... Read More...

Saving the Sloth Bears of Mirzapur


चतल डयर

ड्रमंडगंज- स्थानीय वन रेंज के सोनगढ़ा जंगल से माँ से बिछड़ कर हिरन का बच्चा गाव में पहुच गया नदी नालो में पानी न रहने के कारन जंगली जानवर की तरफ पानी की तलास में आ रहे है!रविवार को लगभग दस बजे सोनगढ़ा निवासी फूलचंद कोल नदी के किनारे गए थे !इस दौरान उनकी निगाह भटकते हुए एक सांभर के बच्चे पे पड़ी! वह दो माह के बच्चे को अपने घर ले आया तथा इसकी सुचना वन छेत्र धिकारी ड्रमंडगंज एसपी सिंह को दी! सोमवार की सुबह मौके पर पहुची वन विभाग की टीम ने सांभर  के बच्चे को अपने साथ रेंज कार्यालय ले आई! जहा पर उसे दूध और पानी दिया जा रहा है! वन छेत्रधिकारी का कहना है की सांभर के दो माह के बच्चे को अभीरक्षा में रखा गया है जैसे ही वह चलने फिरने लगे गा उसे जंगल में छोड़ दिया जायेगा!

स्रोत-http://epaper.amarujala.com/mz/20180306/03.html?format=img&ed_code=mz

Tags: Man Animal Conflict, Chital Deer

Visitor Count

Today138
Yesterday590
This week3643
This month11783

2
Online