Vindhyan Ecology and Natural History Foundation- Website header image

We are a voluntary organization working for the protection of critical ecosystems in Mirzapur region of Uttar Pradesh using scientific research, policy advocacy, and strategic litigation. To donate online click here


vindhyabachao logo

मगर गोह का शिकार कर रहे तीन बंदी- अमर उजाला


कैमूर वन्यजीव अभयारण्य क्षेत्र हलिया की विभागीय फोर्स ने संरक्षित जंगल से मगरगोह (एलोमानीटर लीजार्ड ) का शिकार करते हुए तीन शिकारियों को गिरफ्तार कर लिया । पकड़े गए आरोपियों से छह जिंदा तथा दो मुर्दा कुल आठ मगरगोह सहित वन मुर्गी के 25 अंडे भी बरामद किए गए हैं। गिरफ्तार तीनों आरोपियों के विरुद्ध वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत विभागीय मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया ।
 
क्षेत्रीय वनाधिकारी भाष्कर प्रसाद पांडेय ने बताया कि मंगलवार को सायं चार बजे उन्हें सूचना मिली कि कवलझर वन कंपार्टमेंट नंबर दो के बैधा (बलिहा )जंगल में कुछ लोग मगरगोहों के प्राकृतिक निवास के पास खुदाई कर रहे हैं। सूचना मिलते ही रेंजर ने वन्यजीव रक्षक सचिदानंद, संतोष कुमार, अजीत कुमार तथा आनंद कुमार के साथ विभागीय फोर्स को मौके भेज दिया । वन विभाग की फोर्स को जंगल मे आते देख  शिकारी मौके से भागने लगे । मौके से भाग रहे तीन शिकारियों को फोर्स ने दौड़ा कर पकड़ लिया ।

फोर्स ने मौके पर ही शिकारियों द्वारा पकड़ कर प्लास्टिक की बोरी मे रखे गए आठ मगरगोह तथा 25 वन मुर्गी के अंडे भी बरामद कर लिया । उसके बाद विभागीय फोर्स गिरफ्तार तीनों शिकारियों को बरामद मगरगोहों के साथ लेकर दिघिया रेंज परिसर में आ गई । गिरफ्तार तीनों शिकारियों से किए गए पूछताछ के बाद क्षेत्रीय वनाधिकारी ने बताया कि तीनो आरोपी जंगल मे निवास करने वाले संरक्षित मगरगोहों का अवैध शिकार करने वाले पेशेवर हैं । ये लोग कैमूर जंगल से मगरगोहों को  जिंदा या मुर्दा पकड़ कर मध्य प्रदेश मे बेच देते हैं । रेंजर ने बताया कि एलोमानीटर लीजार्ड की हत्या या तस्करी वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत अक्षम्य अपराध है ।

स्रोत: http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/mirzapur/three-people-hunting-for-gohah

 

 
 
 

Tags: Man Animal Conflict

Visitor Count

Today46
Yesterday505
This week551
This month11443

1
Online